संस्कृत का बहुत फेमस श्लोक है… सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया। सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चित् दुःखभाग् भवेत्।। इसका मतलब है पहला सुख निरोगी काया। हमारा शरीर अगर स्वस्थ रहेगा तभी हम कुछ कर सकते हैं। हम स्वस्थ्य तभी रह सकते हैं जब हमारे आस पास का वातावरण अच्छा […]