एक बार शेक्सपियर ने कहा था, कि नाम में क्या रखा है। लेकिन अगर शेक्सपियर भारत में होते तो वो इसके उलट कहते कि नाम में बहुत कुछ रखा है। दरअसल, भारतीय संस्कृति में नामकरण संस्कार भी 16 संस्कारों में से एक माना जाता है। और सिर्फ इंसान ही नहीं […]

हमारे समाज में जहां एक ओर दहेज प्रथा को रोकने के लिए कानून तो बना दिए जाते है। लेकिन वहीं दूसरी ओर उन कानूनों को तोड़ने वालों की भी कमी नहीं है। दहेज प्रथा की आड़ में लोग अपने ही बेटों की निलामी बड़ी शान से कर जाते है। और […]

आज तक आपने एंबुलेंस की जरूरत या तो इंसानों के लिए सुनी होगी, या फिर जानवरों के लिए.. खैर इनके अलावा कुछ और ऐसा है भी कहां जिनकी मदद के लिए एंबुलेंस को बुलाया जाए.. लेकिन जनाब यहां हम थोड़े से गलत हो सकते हैं। क्योंकि, हाल ही में चेन्नई […]