कहते हैं, नियती का लिखा कोई टाल नहीं सकता.. क्योंकि जो कुछ लिखा जा चुका है। उसे टाल पाना इंसान के बस की बात नहीं है। खैर ये हमारी पुरानी उन परंपराओं में कही गई, एक ऐसी कड़वी सच्चाई है. जो हमको मालूम होने के बावजूद भी हम कभी इससे […]

आज दुनिया में हर इंसान अपनी जिंदगी के मायने अलग-अलग निकाल कर जीना चाहता है. कोई अपनी जिंदगी में शोहरत पाना चाहता है तो, कोई पैसे कमाना चाहता है. किसी को रुतबा चाहिए तो कोई सब कुछ इकट्ठा करने में अपनी जिंदगी गुजार देता है, और कमोबेश यहां हर इंसान […]