अपने आस-पास की दुनियां में हम इतने उलझे रहते हैं कि अपनी ज़िन्दगी की छोटी-मोटी परेशानियों से ऊपर उठ ही नहीं पाते.. ये तक नहीं सोच पाते कि हमसे बाहर भी एक दुनिया है और उसमें लोग रहते हैं। और अगर ऐसे में कोई अपनी कीमत पर दूसरों की परवाह […]