आप किसी मिडिल क्लास इंसान से पूछे कि, उसका सपना क्या है तो वो यही कहेगा कि, मैं चाहता हूँ. अच्छी पढ़ाई करूं, अच्छी नौकरी करूं और फिर साठ साल में रिटायर होने के बाद अपने जीवन के आखिरी समय अपने परिवार वालों के साथ रहूं. हालांकि जिन लोगों के […]

रास्ते से गुजरते किसी बोर्ड पर, किसी होर्डिंग पर, किताबों पर या फिर पेड़ पौधों के सुरक्षा कवच पर हम हमेशा से पढ़ते हैं कि, वन नहीं तो जन नहीं, वृक्ष लगाओ जीवन बचाओ….और पढ़कर इन्हें नज़रअंदाज कर देते हैं. जिसकी महज़ एक वजह है कि हमें पढ़कर भूलने की […]

इस आपातकाल के दौर में पिछले कुछ महीनों की बात करें तो एक ही नाम है जो हर इंसान की जुबां पर बार-बार आया है. वो नाम है बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद का. एक वक्त तक सिर्फ एक फिल्मी अभिनेता और विलेन के तौर पर अपनी पहचान बनाने वाले सोनू […]

‘सोनागाछी’ बंगाल का एक जिला है, जिसका नाम सुनते ही लोग चुप—चुप—चुप कहने लगते हैं। क्योंकि पश्चिम बंगाल का यह जिला जिस कारण से फेमस है उसे हमारे समाज में नीच, गंदा और बुरा काम माना जाता है। लेकिन समाज की इसी सोच के कारण यहां रहने वाली एक बड़ी […]

छोटे हाइट का होना कैसा होता है? मतलब कैसा लगता है किसी को बड़े—लंबे लोगों के बीच में नॉर्मल से भी कम हाइट का होने पर? कईयों को अपनी हाइट के कारण बहुत कुछ सुनने को मिलता है। दुनिया बौना, नाटा, टिंगू और न जाने क्या—क्या कहती है। इसपर भी […]

एक वक्त था, जब बच्चों के पढ़ने लिखने से लेकर शादी तक की एक उम्र तय होती थी। 3 साल की उम्र में स्कूल की पहली क्लास, फिर 17-18 की उम्र में स्कूल खत्म और 21 आते-आते ग्रेजुएशन होते ही, शादी की शहनाई तक की तैयारियां शुरू हो जाती थी। […]

भारतीय परंपरा में महिलाओं का स्थान पुरूषों से ऊपर माना गया है। हर एक शास्त्र में महिलाओं के सम्मान में बहुत सी बाते कही गईं है। जैसे कि, जहां नारी का सम्मान नहीं वहां भगवान का वास नहीं इत्यादि। लेकिन जब हम समाज के अंदर देखते हैं तो, पितृसत्ता का […]

कोई कितना बड़ा आदमी है यह जानना है तो हमे क्या करना चाहिए? हमे यह देखना चाहिए कि, उसने कितना बड़ा काम किया है। क्यों यह जवाब सही है ना! लेकिन यह जवाब सही कैसे हो सकता है। कोई काम बड़ा या छोटा कैसे हो सकता है? काम तो काम […]

हममें से ज्यादात्तर लोगों ने अपने घरों में देखा होगा कि, अंतिम फैसला ‘पापा जी का फैसला’ होता है। मां कितना भी कुछ डिसाइड कर लें या करने की सोच लें लेकिन अंत में वो भी एक बार घर के इस बड़े बॉस से जरूर परमिशन ले ही लेती है। […]

गांव… अंग्रेजी में बोले तो विलेज, अंग्रेजी हो या हिन्दी का शब्द.. दोनों ही शब्दों से हम जिस ओर आपका ध्यान ले जाना चाहते हैं उसके बारे में आपका और हमारा दिमाग पहले ही एक तस्वीर बना चुका है। जो अब अचानक से हमारे दिमाग में घुम रही होगी, हो […]