हत्या, अपहरण, लूट-पाट ऐसी घटनाऐं आज इतनी आम हो गई हैं कि, ये खबरें किसी भी न्यूज पेपर से लेकर किसी भी हिस्से में क्यों न चल रही हो, किसी को इससे फर्क नहीं पड़ता. हाँ मगर जब भी कहीं इस तरह की घटनाऐं होती हैं तो निश्चित ही किसी […]

देशभर में लगे लॉकडाउन के बीच केरल का एक गरीब भिखारी सड़क किनारे चुप-चाप लेटा हुआ था कि, अचानक कुछ देर बाद कुछ पुलिस अवसर उसकी तरफ बढ़ने लगे, उनमें से एक के हाथ में एक कागज का पॉलीबैग था। वो धीरे-धीरे भिखारी की ओर बढ़ रहे थे। मगर जैसे […]

सेलफोन, मतलब मोबाइल, इसे मोबाइल शायद इसलिए कहते हैं क्योंकि आज हम जहां जाते हैं यह वहां हमारे पॉकेट में हमारे संग यह जाती हैं और वहां भी जहां आप सबसे ज्यादा समय खुद के संग कभी बिताते थे, मतलब वॉशरूम। खैर मोबाइल का जमाना बड़ी तेजी से बदला है, […]

केरल बाढ़ 2018, गॉड ऑन कंट्री में आई इस तबाही को कोई कैसे भूल सकता है। इस बाढ़ रुपी विभिषिका ने सिर्फ केरल में तबाही मचाई थी लेकिन उसके प्रकोप का असर देश के हर कोने में देखने को मिला था। इस बाढ़ में 373 लोगों को अपनी जान गवानी […]

‘लिव इन रिलेशनशिप’, अंग्रेजी का छोटा-सा वाक्य है, लेकिन हमारे सामाज में जैसे ही इसके बारे में लोग सुनते हैं यह छोटा सा वाक्य उनके गुस्से में उबाल का कारण बन जाता हैं। भारतीय संस्कृति पर हमला  सीधे ध्यान यहीं जाता है। भारतीय संस्कृति में ‘लिव इन रिलेशनशिप’ का कोई […]

भारतीय बाजारों से लेकर भारतीय गलियारों में त्योहारों की धूम हर महीने दिखाई देती है. क्योंकि भारत में त्योहार की झड़ी कभी समाप्त नहीं होती. नए साल की शुरुआत जहाँ लोहड़ी मकर संक्रांति से होती है. वहीं उसके बाद देश के हर कोने में महाशिवरात्रि, नवरात्र की धूम दिखाई देती […]

19 फरवरी के दिन हर साल देशभर में, खासतौर पर महाराष्ट्र राज्य में भारत के वीर सपूत छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती मनाई जाती है। माना जाता है कि, इसी दिन को 1627 या 30 के आसपास उनका जन्म हुआ था। शिवाजी का पूरा नाम शिवाजी भोंसले था। पिता शहाजी […]

महान चित्रकार लियोनार्दो द विंची के बारे में आपने सुना होगा, बहुत बड़े चित्रकार थे। उनके बारे में कहा जाता था कि, वे एक हाथ से चित्र बनाते हुए अपने दूसरे हाथ से लिख भी लिया करते थे। इतनी दूर क्यों जाना, अपने देश से ही एग्जांपल उठा लेते हैं। […]

नालंदा, भारत में क्या दुनिया में कोई ऐसा पढ़ा लिखा इंसान नहीं होगा जिसने इस नाम को नहीं सुना होगा। अगर हम हिस्ट्री ऑफ ऐजुकेशन की बात करें तो नालंदा इसका सबसे गोल्डन पिरियड है। जहां पूरी दुनिया का ज्ञान समाहित होता था। नालंदा भारत के इतिहास के गोल्डन पीरियड […]

कहते हैं, नियती का लिखा कोई टाल नहीं सकता.. क्योंकि जो कुछ लिखा जा चुका है। उसे टाल पाना इंसान के बस की बात नहीं है। खैर ये हमारी पुरानी उन परंपराओं में कही गई, एक ऐसी कड़वी सच्चाई है. जो हमको मालूम होने के बावजूद भी हम कभी इससे […]