हमारे समाज में जब भी कोई ऐसा काम होता है, जिससे समाज को या पर्यावरण को नुकसान पहुंचता है तो कोई न कोई उसके बचाव में हमेशा खड़ा होता है. साल था 1973 और गांव था, उत्तर प्रदेश का मंडल गांव. उस समय उत्तर प्रदेश सरकार ने व्यावसायिक उद्देश्यों के […]