Super Sanskari Saree जो महिलाओं को रेप से बचाएगी !

कभी आपने सोचा है कि किसी लड़की के पहचनावे की वजह से उसका रेप हो सकता है? जी हां, छोटे कपड़े लोगों को रेप के लिए उकसाते हैं। बाहर छोड़िए आपके घर में ही ऐसे लोग होंगे जो आपको बार-बार कपड़ों के लिए टोकते होंगे। मतलब घर, बाहर, समाज, शहर के लोग बार-बार आपको अहसास कराते हैं कि रेप आपकी ही गलती के कारण होता है। इसके लिए आप ही जिम्मेदार हैं। हाल में देश की राजधानी से सटे गुरुग्राम में एक महिला छोटे कपड़े पहनी लड़कियों पर इस कदर गुस्सा हो गई कि उसने कैमरे पर ही कह दिया, ‘तुम लोगों का तो रेप हो जाना चाहिए। इसके बाद पूरे देश में लड़कियों के कपड़ों और लोगों की ओछी मानसिकता को लेकर बहस छिड़ गई। ताज्जुब तब हुआ जब उस महिला का समर्थन करने वाले लोग भी सामने आने लगे और कहने लगे कि हाँ छोटे कपड़ों की वजह से ही रेप होता है मतलब उन अपराधियों को क्या जो रेप करते हैं उनका कुछ नहीं उनके लिए कोई कुछ नहीं कहेगा।

Super Sanskari Saree पुरुषों की गन्दी मानसिकता पर चोट करती है

अब सवाल खड़ा होता है कि फिर महिलाएं खुद को इन रेप की मानसिकता लिए घूम रहे दरिंदों से कैसे बचाएं? ज्यादातर लोग कहते हैं कि लड़कियों को अपने कपड़ों का चुनाव सोच-समझकर करना चाहिए। उनके मुताबिक यौन अपराध से बचने के लिए लड़कियों को संस्कारी कपड़े पहनने चाहिए। तो लो भैया ऐसे ही लोगों का मुँह बंद करने के लिए एक ग्रुप ने ‘सुपर संस्कारी साड़ी’ लांच की है। बोस्टन में रहने वाली राइटर तनवी टंडन एक वेबसाइट चलाती हैं। यह वेबसाइट महिला सुरक्षा और उनके पहनावे से जुड़े नियमों और नजरिये पर तीखे व्यंग्य करती है। इस वेबसाइट को चार लोग मिलकर चलाते हैं। तो इन लोगों ने सोचा कि क्यों ना इस बार रेप पीड़ित लड़की से सिम्पथी करने की बजाय या फिर ऐसी मानसिकता रखने वाले लोगों को सिखाने की बजाय इनका मजाक उड़ाया जाए। इसके बाद वेबसाइट ने ‘सुपर संस्कारी साड़ी’ लॉच की।

Super Sanskari Saree

Super Sanskari Saree एंटी-रेप तकनीक से बनाई गई है।

वेबसाइट पर इस सुपर संस्कारी साड़ी के बारे में बताया गया है कि ये साड़ी एंटी-रेप तकनीक से बनाई गई है। साथ ही यह साड़ी ये भारतीयों की सोच को ध्यान में रखकर कुछ ऐसे बनाई गई है कि महिलाएं इसे पहनते ही अदृश्य हो जाएंगी। ये अति संस्कारी पहनावा आपको गन्दी नजरों से बचाकर रखेगा, क्योंकि उन्हें आपके शरीर का कोई हिस्सा दिखाई ही नहीं देगा। जब दरिंदों को आपका कोई अंग दिखेगा ही नहीं तो आपका रेप भी नहीं होगा। इन साड़ियों में एक ‘महत्वाकांक्षी नारी ऑफिस साड़ी’ है, जिसकी कीमत 500 रुपये रखी गई है। वहीं, एक साड़ी का नाम ‘आइटम नंबर साड़ी’ रखा गया है। इसकी कीमत 100 रुपये है। एक ‘सन-स्कारी बीच वियर साड़ी’ की कीमत 200 रुपये रखी गई है। वहीं, बिकनी की जगह बिकी-नहीं नाम से कपड़े भी हैं। आंटीजी के लिए 50 रुपये कीमत वाली ‘लॉन्जवियर साड़ी’ पेश की है। वहीं, 1000 रुपये कीमत वाली ‘अच्छी बच्ची’ साड़ी के जरिये छोटी-छोटी बच्चियों से हो रही दरिंदगी पर कमेंट किया गया है। ऐसे में समाज में रह रहे घटिया मानसिकता के लोगों की सोच की धज्जियां उड़ाने के लिए बोस्टन की एक कंपनी ने सुपर संस्कारी साड़ीज लॉच की। इससे भी अच्छी बात ये है कि वेबसाइट पर इन साड़ियों की बिक्री से होने वाली कमाई को महिला सुरक्षा पर खर्च किया जाएगा। यानी साड़ियों के जो रेट दिखाए गए हैं वो वास्तव में महिला सुरक्षा के नाम पर दिए जाएंगे।

Indian

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

चिपको आंदोलन की गाथा लिखने वाली गौरा देवी, जिन्हें शायद ही जानते होंगे आप!

Thu Jul 11 , 2019
Share on Facebook Tweet it Pin it Email हमारे समाज में जब भी कोई ऐसा काम होता है, जिससे समाज को या पर्यावरण को नुकसान पहुंचता है तो कोई न कोई उसके बचाव में हमेशा खड़ा होता है. साल था 1973 और गांव था, उत्तर प्रदेश का मंडल गांव. उस […]
चिपको आंदोलन