Misaal Mumbai – लोगों के नजरिए को बदलने का रंगीन जरिया

लोग जब भी सड़क पर चल रहे होते हैं और उसी बीच अगर झुग्गी झोपड़ियों पर नज़र चली जाती है तो मन में कई तरह की बातें आने लगती है जैसे इतना छोटा घर ये सीधे कैसे खड़े पाते होंगे अंदर एक कमरे के घर में कितने लोग और कैसे रहते होंगे। वगैरह वगैरह मगर बस इतना ही हाँ क्योंकि इसके आगे सोचने की फुर्सत है किसे है। तो ज़नाब कुछ लोग हैं ऐसे जो इन बेरंग झुग्गी झोपड़ियों में रहने वालों की ज़िंदगी में भी रंग भरने की कोशिशों में कोशिशों में जुटे हैं। ये कलाकार मुंबई के हैं जो पुणे की झुग्गियों को रंगीन करने में लगे हुए हैं। ‘मिसाल मुंबई’ संस्था की प्रमुख रूबल नेगी एक समाजसेवी है एक कलाकार भी हैं।

Misaal Mumbai – रूबल नेगी ने भरा बदरंग झुग्गियों में रंग

इस एनजीओ ने पुणे की झुग्गियों को रंगना शुरू किया। अब मुंबई की झुग्गियां पहले से खूबसूरत बन गई हैं। इन्होंने इस अभियान की शुरुआत जनवरी 2018 में की थी। उनकी टीम ने स्लम बस्तियों के करीब 46,000 घरों पर खूबसूरत तस्वीरें उकेरी और उन्हें रंगीन बना दिया। ये अपने अभियान को पुणे में भी चला रही हैं ताकि स्लम बस्तियों में रहने वालों की जिंदगी जरा बदल सके। हालांकि इनके प्रयास के हैरान कर देने वाले परिणाम सामने आए हैं। तस्वीरों के जरिए आप खूबसूरत झुग्गियों को देख सकते हैं। वाकई रूबल ने बेहद नायाब अभियान चला रखा है।

सिर्फ़ झुग्गियां ही नहीं लोगों का रहन सहन भी बदल रही हैं रूबल

रूबल को कला के ज़रिए लोगों से जुड़ना काफी अच्छा लगता है। रूबल सिर्फ दीवारों को ही रंगीन नहीं करने वाली बल्कि वो उनके कपड़े और रहन-सहन में भी सुधार लाने की ठानी है। इनके काम की तारीफ़ देश ही नहीं, विदेशी मीडिया भी कर चुकी है। इस अभियान से रूबल झुग्गियों में रहने वाले लोगों के प्रति जो नजरिया बना हुआ है, उसे बदलने का काम कर रही हैं। एक नागरिक के तौर पर देश की बेहतरी में रूबीन का योगदान प्रेरणा देने वाला है! वाकई में यही तो इंडियननेस। आप इंडियननेस को किस तरह डिफाइन करते हैं आपके लिए इस शब्द के क्या मायने हैं हमें कमेंट कर के जरूर बताएं।

Indian

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

भारत में कुछ ऐसे शुरू हुआ पान का रसीला सफर

Mon Aug 19 , 2019
Share on Facebook Tweet it Pin it Email छोटी सी दुकान, और उसके अंदर धोती कुर्ता पहने बैठे लालाराम.. मुंह में दबाएं पान से सने होंठों के साथ एक चमचमाती हंसी.. अरे भई ये तो पान वाले भईया है। दोस्तो पान और उसका स्वाद, मानो जैसे उत्तर भारत के लोग […]
Paan