गूगल की नौकरी छोड़ समोसे बेचने वाला शख्स, जिसके दीवाने ही फिल्मी सितारे

कहते हैं इंसान का ख्वाब हमेशा सबसे बड़ा होना चाहिए. क्योंकि बड़े ख्बाव के जरिए ही इंसान अपनी मंजिल तक पहुंच पाता है. ऐसे में जहां अक्सर हर इंसान अच्छी नौकरी, अच्छी जिंदगी जीने की सोचता है तो, ऐसे भी कितने ही लोग हैं जो इन सब चीजों से परे रिस्क से अपना नाम बनाते हैं. इन्हीं नामों में से एक नाम है मुनाफ़ कपाडिया का…मुनाफ़ जो एक समय तक गूगल जैसी कंपनी में अच्छी खासी नौकरी कर रहे थे. लेकिन उन्होंने गूगल जैसी नौकरी महज़ इसलिए छोड़ दी क्योंकि उन्हें समोसे बेचने थे!

आज अपनी लगन और मेहनत के दम पर ही मुनाफ़ और उनके रसोई The Bohri Kitchen का नाम हर तरफ छा रहा है. यही नहीं आज के समय में The Bohri Kitchen की चर्चा बॉलीवुड में भी काफी हो रही है. मुनाफ़ बताते हैं कि, “इस बिजनेस को करने का प्लान कुछ खास नहीं था. बस माँ समोसे और खानान अच्छी बनाती थी तो, मैंने अपने दोस्तों को अपने बर्थडे पर खाने पर बुलाया था. दोस्तों ने माँ के हाथ का बना खाना खाया और उन्हें खाना इतना पसंद आया की खाने का स्वाद उनके ज़हन में बस गया. बस फिर क्या था. मैंने और मेरी माँ नफ़ीसा ने The Bohri Kitchen की शुरुवात की.

The Bohri Kitchen

एक शौक से बना The Bohri Kitchen

मुनाफ़ दाऊदी बोहरा समुदाय से ताल्लुक रखते हैं. मुनाफ़ कहते हैं कि, “मैंने हमेशा ये नोटिस किया है कि, बाजार में या कहीं बाहर खाना खाते वक्त न तो अच्छा खाना आराम से मिल पाता है और न ही खाने में स्वाद होता है, लेकिन मैंने अपने यहाँ कुछ बेहतर एक्सपीरियंस के लिए स्मोक्ड चिकेन कीमा, काजू चिकन, नल्ली-नहारी की शुरुवात की.

इसके बारे में मुनाफ़ कहते हैं कि, जिस समय मैंने अपने दोस्तों को घर पर खाने के लिए बुलाया था. उसकी तारीफ़ के चलते ही अपने घर पर भी डाइनिंग एक्सपीरियंस की मैंने शुरुवात की. जिसके लिए मुनाफ़ ने अपने दोस्तों को मैसेज, ईमेल और फोन कॉल के जरिए जानकारी दी.

The Bohri Kitchen

देखते ही देखते मुनाफ़ को उनके जानने वालों से लेकर उनके दोस्तों के फोन कॉल आने लगे. यही वजह रही कि, मुनाफ़ का पहला ही डाइनिंग एक्सपीरियंस काफी शानदार रहा. साथ ही लोगों को ये काफी पसंद आया. ये वो समय था जिस समय मुनाफ़ गूगल में नौकरी कर रहे थे. अपने किचन पर फोकस करने के लिए मुनाफ़ ने जहाँ डाइनिंग एक्सपीरियंस रखने का हर हफ्ते प्लान बनाया. साथ ही लोगों को घर का वातावरण भी मुहैया कराया. ताकि लोगों को खाने के साथ-साथ अपनापन भी महसूस हो सके. यही वजह रही कि, The Bohri Kitchen की तारीफ के साथ-साथ इस माँग इतनी बढ़ने लगी कि, उनके जानने वालों से लेकर अंजान लोगों तक The Bohri Kitchen का नाम फैलने लगा.

2015 से ही मुंबई में बड़ी गई थी The Bohri Kitchen की मांग

जिसके चलते मीडिया चैनल से लेकर पत्रकार तक मुनाफ़ के घर पहुंचने लगे. मुनाफ़ कहते हैं कि, मेरे लिए सबसे बेहतर पल वो था. जिस समय हमारे यहाँ बीबीसी की टीम हमारा किचेन शूट करने पहुंची थी.

The Bohri Kitchen

यही वजह रही कि, साल 2015 से ही The Bohri Kitchen की माँग और चर्चा दोनों ही मुंबई के आस-पास के इलाके में होने लगी. जिसके चलते मुनाफ़ ने The Bohri Kitchen के दो किचन बनाए. ताकि लोगों को बेहतर एक्सपीरियंस के साथ बेहतर खाना खिलाया जा सके. आज मुनाफ़ की मेनू कार्ड में 100 आइटम से ज्यादा चीजें शामिल हैं. मुनाफ के खाने से बॉलीवुड भी अछूता नहीं रह गया है. क्योंकि रानी मुखर्जी से लेकर ह्रितिक रोशन जैसे स्टार्स भी मुनाफ़ के खाने के दिवाने हैं.

Indian

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पत्नी के बनाए सिरके और अचार ने बनाया सभापति शुक्ला को करोड़पति

Thu Jul 16 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it Email कभी कभी हमारे जीवन में कुछ ऐसी घटनाऐं और वाकये घट जाते हैं. जिनके बारे में न तो हम कभी सोचते हैं और न ही उसका लेना देना हमारी जिंदगी से होता है. लेकिन आगे चलकर वहीं घटना हमारी जिंदगी बदल देता […]
शुक्ला जी का मशहूर सिरका