Lady With Gun – Shabana Begam

एक औरत चाहे तो क्या कुछ नहीं कर सकती। बैंडिट क्वीन , गॉडमदर, शबरी , गुलाबी गैंग इन फिल्मों में आप सब ने औरतों को गुंडो और मवालियों के साथ भिड़ने के लिए अपने कोमल हाथों में बंदूक थामे तो जरूर देखा होगा, लेकिन भारत की बेटी शबाना बेगम रियल लाईफ में भी कुछ ऐसी ही जिंदगी जी रही हैं।

हाथों में कंगन की जगह बंदूक और पटियाला सूट के ऊपर कारतूस बैल्ट यानी गोलियों का कमरबंध पहन कर चलने वाली ये महिला ना तो कोई गैंग्स्टर हैं और ना ही कोई पुलिस अधिकारी। हम बात कर रहे हैं बदूंक वाली आंटी शबाना बेगम की। उत्तर प्रदेश की रहने वाली बंदूक वाली चाची यानी शबाना बेगम ने हर श्रंगार को इंकार करते हुए समाज में औरतों पर हो रहे आत्याचार को रोकने के लिए अपने हाथ में बंदूक तान ली है। इतना ही नहीं फूली लोडड बंदूक पकड़े शबाना बेगम रोज आधी रात को यू पी की सुनसान सड़कों पर निकल पड़ती हैं, और देखती हैं कि कहीं कोई लड़की पर जुर्म तो नहीं हो रहा।

वैसे को आपने लोगों को ये कहते अक्सर सुना होगा कि, औरत ही औरत की दुश्मन होती है लेकिन शबाना बेगम ने इस कहावत को पूरी तरह झुठलाते हुए समाज की लड़कियों की हिफाजत के लिए खुद की जान तक जोखिम में डाल दी है।

Lady With Gun – सो जाओ वरना बंदूकवाली आंटी आजाएंगी

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर की रहने वाली 44 साल की शबाना बेगम के पति की मौत 19 साल पहले हो गई थी। और बस तभी से शबाना बेगम अकेले अपने बलबूते पर ही अपने 4 बच्चों को पाल रही हैं.. लेकिन शबाना की जिंदगी ने नया मोड़ तब लिया जब साल 2013 में उत्तर प्रदेश में दो लड़कियों के साथ हुए रेप का मामला शबाना के सामने आया। दरअसल, शबाना के ही गांव के दो आदमियों ने अपनी हैवानियत दिखाते हुए एक लड़की को बुरी तरह टार्चर करके उसके साथ बालात्कार किया, और जब ये बात शबाना को पता चली तो शबाना ने दोनों रेपिस्ट को पुलिस के हवाले कर दिया। मगर जब बात इसांफ की आई तो उन्ही में से एक रेपिस्ट ने लड़की से शादी कर ली और वो मामला ठंडा पड़ गया।

खैर, ये कुछ नया नही था, हमारे समाज में आज भी ना जाने ऐसे कितने गुमनाम रेप केसेस है, जिनमें लड़कियों की इज्जत से खिलवाड़ करने वाले हैवानों को उन्ही की इज्जत का रक्षक बना दिया जाता है। और बस लड़कियों को इंसाफ के नाम पर उनके ही आरोपी के साथ शादी जैसे पवित्र बंधन में बांध दिया जाता है।

Lady With Gun

शबाना खुद दो बेटियों की मां थी, तो किसी दूसरे की बेटी पर हुए इस अत्याचार को वो सह नहीं पा रही थी, दोसत् शबाना अभी इस सदमें से उभरी भी नहीं थी, कि, उनके कानों में एक और लड़की के साथ हुए बालात्कार की खबर पड़ी.. और बस शबाना ने उसी रात अपनी कमर में कारतूस बैल्ट बांधी और हाथ में बंदूक थाम ली। शबाना ने अपनी बंदूक को पति मानकर कसम खाई की वो अपने गांव की बेटियों और महिलाओं के साथ और कुछ गलत नहीं होने देंगी।

Lady With Gun – अंधेरी सुनसान राहों पर निकलती हैं ‘बंदूकवाली आंटी’

बच्चों को घर में छोड़ कर शबाना रात को अकेले ही पेट्रोलिंग के लिए निकल गई। अपने गांव से आतंक और डर खत्म करने की इस राह पर शबाना का हर तरह के आरोपी, मवाली और गुंडो से पाला पड़ता रहा। लेकिन बैखोफ शबाना ना सिर्फ इन गुंडो से लड़ती, बल्कि उनको पुलिस के हवाले भी कर देती। शबाना के इस कदम के बाद गांव ही नहीं बल्कि, आस पास के इलाकों के गुंडे और बदमाश भी उनसे खौफ खाने लगे हैं। आलम ये हो चला है कि शाहजहांपुर में शबाना के खौफ के चलते वारदातों की संख्या भी बहुत कम हो गई है। और आज शबाना की पहल के कारण शाहजहांपुर की लड़कियां और औरतें बिना किसी डर से बाहर घूम रही हैं। यूपी में जो काम आजतक पुलिस नहीं कर पाई वो अकेली शबाना ने कर दिखाया।

अब शबाना सिर्फ अपने गांव में ही नहीं बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश में अपनी बंदूक के साथ पेट्रोलिंग करती हैं और घर घर जाकर महिलाओं और लड़कियों से आत्याचार के खिलाफ लड़ने की अपील करती हैं। उत्तर प्रदेश में बंदूकवाली आंटी और लेडी विद गन के नाम से जानी जाती शबाना के जलवे इस कदर फैल चुके हैं कि अब गांव के लोग शबाना के पास अपनी समस्याएं लेकर आने लगे हैं। जमीन का बंटवारा हो या पानी की प्रॉब्लम, यहां तक की शहर और गांव के विकास की बात के मुद्दे भी लोग शबाना के पास लेकर आते हैं।

दोस्तो आज, अपनी हिम्मत और नेक इरादे के साथ शबाना उन सबके लिए प्रेरणा बन चुकी हैं जो खुद को कमजोर समझते हैं।

Indian

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

इतने संघर्ष के बाद दिनेश लाल यादव को मिली निरहुआ की पहचान

Thu Jul 11 , 2019
Share on Facebook Tweet it Pin it Email हमारे देश में कई ऐसे कलाकार हैं, जिनके काम से ही आज उनको नाम मिला है। अगर आप बिहार या यूपी से हैं, तो आपने निरहुआ का नाम तो जरूर सुना होगा। बिहार और यूपी का जानामाना नाम निरहुआ या कहें कि […]
Nirahua