इंग्लिश नेशनल बैले स्कूल लंदन में सिलेक्ट होने वाले पहले भारतीय बने कमल सिंह

Inspiration आपको कहीं भी, कभी भी, किसी भी चीज से मिल सकती है। और कई बार जरूरी नहीं कि आपको इंस्पायर करने वाला कोई सफल इंसान ही हो। जानवर, पर्यावरण, प्रकृति, पक्षी और कई बार बेजान चीजें भी हमें प्रेरणा दे जाती हैं। लेकिन दिल्ली के विकासपुरी इलाके के रहने वाले कमल सिंह को आज से 6 साल पहले बैले डांस की प्रेरणा ABCD- AnyBody Can Dance फिल्म देखकर मिली थी। और बस तभी से शुरू हो गया था कमल सिंह के सपनों को पंख लगाने का सफर..

कमल सिंह के पिता रिक्शा चालक हैं। परिवार की आर्थिक हालत भी कुछ ज्यादा खास नहीं है। ऐसे में पैसो की तंगी के बीच आज के वक्त में डांस क्लास ज्वाइन कर पाना अपने आप में ही एक बड़ी चुनौती है और बात अगर भारतीय परिवारों की हो तो आर्थिक तौर पर कमजोर परिवार की आखिरी उम्मीद उनके बच्चे ही होते हैं।

कमल सिंह के पिता ने डांस के बदले उनके सामने रखी ये शर्त

वहीं दूसरी तरफ कमल को जब डांस की सनक सवार हुई तो उनके घरवालों के लिए उनकी पढ़ाई छुड़वाकर उन्हें डांस सिखाना आसान नहीं था। कमल के पिता शुरूआत में उनके इस शौक से खुश नहीं थे। लेकिन बेटे की जिद्द के आगे हार मानते हुए उन्होंने कमल के सामने शर्त रख दी कि, पहले वो अपनी 12वीं पास करेंगे उसके बाद ही उन्होंने डांस की इजाजत मिलेगी।

इंटरनेट पर काफी रिसर्च के बाद कमल को फर्नांडो अग्लेरा (कमल के डांस टीचर) का पता मिला, जिसके बाद उनका फ्री ट्रायल हुआ और कमल का डांस स्कूल में सिलेक्शन हो गया। फर्नांडो ने बताया कि, कमल शुरू से ही प्रतिभाशाली और अनुशासित स्टूडेंट थे. उनकी मेहनत में कभी कोई कमी नहीं होती थी.

कमल के आगे सबसे बड़ा चैलेंज उनकी आर्थिक स्थिति थी. ऐसे कमल के डांस टीचर व गुरू फर्नांडो अगलेरा ने कमल की आर्थिक हालत देखने के बाद भी उसका साथ नहीं छोड़ा। कमल सिंह की प्रतिभा को देखते हुए ही उनके गुरू ने उन्हें डांस स्कूल में स्कॉलरशिप दिलाई है।

Also Read- कल तक सब नचनिया कहते थे, आज साथ नाचने की मिन्नतें करते हैं

कड़ी मेहनत और प्रैक्टिस के बाद ही कमल ने आज ये साबित कर दिखाया है कि, कुछ हासिल करने के लिए कुछ खोने की नहीं बल्कि मेहनत कर उसे कमाने की जरूरत होती है. देखते ही देखते आज कमल सिंह भारत के पहले ऐसे शख्स बन चुके हैं जिन्हें इंग्लिश नेशनल बैले स्कूल लंदन में दाखिले के लिए चुना गया हो।

बता दें कि, कमल सिंह को इंग्लिश नेशनल बैले स्कूल लंदन में दाखिला मिल गया है. यहां एक वर्ष का प्रशिक्षण पूरा कर कमल प्रोफेशनल बैले डांस की दुनिया में अपना कदम रखेंगे. लेकिन ये सफर इतना आसान नहीं था कमल के दाखिल के बाद उनके सामने अभी भी पैसों को लेकर कई समस्याएं खड़ी थी। ऐसे में क्राउड फंडिंग कैम्पेन से कमल को लाखों की मदद मिली।

कमल सिंह की मदद को आगे आई दुनिया, क्राउडफंडिग से जुटाए पैसे

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चल रहे क्राउड फंडिंग से कमल 17 लाख के करीब फंड जुटा चुके हैं. हालांकि लंदन में रहने और पढ़ाई पूरी करने के लिए उन्हें ज्यादा पैसों की जरूरत होगी. लेकिन दो वक्त के खाने और जीवन की मूलभूत सुविधाओं के लिए जद्दोजहद करने वाले कमल और उनके परिवार के लिए ये अवसर किसी वरदान से और फर्नांडो अगलेरा किसी फरिश्ते से कम नहीं हैं.

Also Read- कोरोना काल में प्रवासी मजदूरों की मदद में जुटे हैं दो जिगरी दोस्त

इतना हीं बॉलीवुड कलाकार ऋतिक रोशन ने भी कमल की प्रतिभा को सराहते हुए उनकी मदद को अपना हाथ आगे बढ़ाया है। ऋतिक ने कमल की मदद के लिए उनके टीचर को 3 लाख रूपये डोनेट किए हैं जिसकी जानकारी खुद कमल सिंह के टीचर ने अपने इंस्टाग्राम पर पोस्ट कर दी है।

खास बात ये है कि, कमल सिंह की प्रतिभा और उनके जज्बे को देखते हुए हजारों लोगों ने इंटरनेशनल लेवल पर उनकी मदद के लिए अपना हाथ आगे बढ़ाया। यानी कि आज भी देश औऱ दुनिया में इंसानियत और मदद के लिए हाथ बढ़ाने वालों की कमी नहीं है।

Indian

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

वो दौर जब पत्नी से मिलने भारत से स्वीडन साइकिल पर पहुंचे थे प्रद्युमन महानंदिया

Wed Sep 30 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it Email प्यार इंसान के अंदर एक ऐसा जोश जगा देता है, जो उसे हर मुश्किल समय में डटकर खड़ा रहने के लिए एनर्जी दे देता है। ऐसी ही रोमांचक कहानी है प्रद्युम्न कुमार महानंदिया की, जिसने अपनी लगन और मेहनत से सच्चे प्यार […]
प्रद्युमन महानंदिया