‘मधुशाला’ आज भी लोगों के बीच लोकप्रिय है। 1935 में छपी मधुशाला ने हरिवंशराय बच्चन को खूब प्रसिद्धि दिलाई। मधुशाला आम लोगों के ईर्द-गिर्द घूमनेवाली रचना है। यही कारण है मधुशाला कालजयी कृति बनकर कायम है। Madhushala – मधुशाला से समाज में दिया एकता का संदेश इसका अंग्रेजी सहित कई […]

मिर्जापुर (उत्तर प्रदेश): कहते हैं भूख हर इंसान को लगती है, कोई महलों में रहकर आलीशान खाना खाता है, तो कोई सामान्य, लेकिन दुनिया में ऐसे ना जाने कितने लोगों हैं, जो भूखे पेट सो जाने के आदि हो गए हैं. अगर बात करें देश की तो यहां ऐसे ना […]

गुलामी की जंजीरों में लिपटे भारत में अनेकों ऐसे संग्राम हुए थे, जो भारत की आजादी के लिए किए गए थे. जहां एक तरफ भारत के वीर सपूत अंग्रेजों को भारत से भगाने के लिए देश के कई हिस्सों में स्वतंत्रता संग्राम कर रहे थे, वहीं अंग्रेजों के खिलाफ उसी […]