Cat Cafe इंडिया का पहला बिल्लियों का कैफे

इंडिया का पहले कैट कैफे। यहां अकेले आएं या दोस्तों के साथ, लैपटॉप लेकर आएं या किताब, आपका सारा ध्यान यहां मौजूद बिल्लियां ले जाएंगी।

खाली टाइम बिताने के लिए या ऑफिस के स्ट्रेस को दूर करने के लिए… या फिर दोस्तो के साथ विकेंड बिताने के लिए आप भी किसी ना किसी कैफे में जरुर जाते होगे। कही की आपको चाय सेडवीच अच्छा लगता होगा या कही की कॉफी आपकी फेवरेट होगी। मगर आपको आज हम जिस कैफे के बारे में बताने जा रहे हैं यहां लोग चाय या कॉफी पीने कम और यहां के होस्ट्स के साथ समय बिताने ज्यादा आते हैं।  हम बात कर रहे हैं मुंबई के वर्सोवा के कैट कैफे की। जहां आप अपना पूरा समय यहां की बिल्लियों के साथ बिता सकते हैं।

Cat Cafe जहां बिल्लियों के साथ वक्त बिताते है लोग।

कैट कैफे.Cat Cafe in india

हैरान हो गए ना कैट कैफे का नाम सुन कर. आप सोच रहे होगे की हमने पहले होस्ट्स की बात क्यो की जब हम कैट की बात कर रहे है और तो और साथ ही बिल्लियों के साथ चाय कॉफी पीना। तो हम बता दे की इस कैफे की खास बात ये है कि आप यहां अकेले आएं या दोस्तों के साथ, लैपटॉप लेकर आएं या किताब, आपका सारा ध्यान यहां मौजूद बिल्लियां ले जाएंगी। इन्सानों और जानवरों के बीच इस खूबसूरत रिश्ते को देखना हो तो आप इस कैफे में जाने का प्लान कर सकते हैं। यहां आपको हर तरह की सुविधा के साथ बिल्लियों का साथ मिलेगा, और चाय या कॉफी की चुसकियां भी मिलेगी। आम कैफे की तरह इस कैफे में आप बस यूं ही नहीं आ सकते। इस कैफे में बिल्लियों के लिए एकक्लीन एनवायरनमेंट बनाया गया है

इस लिए यहां आने के लिए आपको कुछ रूल को फॉलो करना पड़ेगा।  कैफे में अंदर आने से पहले आपको बाहर लगे वॉश बेसिन में अपने हाथ धोने होंगे। इसके बाद कैफे में अंदर आने से पहले अपने चप्पल और जूते बाहर ही छोड़ना होगा। साथ ही इस कैफे में शोर मचाना मना है। आप चाहे तो यहां से बिल्लियों को अडॉप्ट भी कर सकते हैं। मगर इस अडॉप्शन के रूल काफी कड़े हैं। जो रूल सबसे जरूरी है वो ये कि बिल्ली को आप नहीं बल्कि बिल्ली आपको पसंद करेगी।

Cat Cafe से बिल्लियां कर सकते है अडॉप्ट, लेकिन उसके लिए है खाल रूल

कैट कैफे.Cat Cafe in india

मतलब आप जिस भी बिल्ली को पसंद करते हैं उसके साथ आपको कुछ समय बिताना होगा। मतलब की आप कैफे में एक दिन आइए फिर दूसरे फिर तीसरे दिन , जब तक बिल्ली आपको पूरी तरह पहचान नहीं लेती और अपके साथ घुल-मिल नहीं जाती। तब तक आप उस बिल्ली को अडॉप्ट नहीं कर पाएंगें। मुंबई के इस कैट कैफे में बिल्लियों को रेस्क्यू भी किया जाता है मतलब अगर कोई बिल्ली किसी को कहीं मिलती है तो वो उन्हें यहां छोड़ जाते हैं। जिसके बाद उन्हें यहां रखा जाता है। इस कैट कैफे की तरह देश भर मे कई और कैफे खोले गए है। इसे और कैफे मे जरुरी नही की आपको कैट ही मिले कई कैफे ऐसे है जहां आपको आपके पंसदीदा जानवर के साथ समय बिता सकते हैं।

आपको बता दे की इस कैफे मे बिल्लियों के लिए सारी सुख सुविधायें हैं। उनको यहां नर्म बिस्तर और मनपसंद खाने के साथ डॉक्टरो की सुविधायें भी मिलती है। उम्मीद है की इस के बाद से लोग बिल्लियों को पालने में दिलचस्पी दिखाएंगे और जो लोग देश से बाहर जाते हैं वो अपनी बिल्लियों को यहां छोड़ भी सकते हैं।

इस कैफे के खुलने से इलाके के लोग जो जानवरो से काफी प्यार करते है वो बहुत खुश हैं। कैफे खुलने के बाद यहां पहुंचीं बिल्लियों के तो काफी मजे हैं ही। हालाकि पहले यहां के लोग इस कैफा का विरोध कर रहे थे, मगर अब वे इसे पसंद करने लगे हैं सुनने में आया है कि जल्द ही इस होटल में कुत्तों और पक्षियों के लिए भी अलग से कमरा बनाया जाएगा।              

ये बिल्लियां इतनी cute है की जो यहां आता है वो इनके साथ कम से कम 2 से 3 घंटे बिताता है, और यहां से जाते हुए ऐसा लगता है की क्या जो रहे है यार थोड़ा और नही रुक सकते। हमारे देश मे कई लोग ऐसा बोलते है की बिल्ली नही पालनी चाहिए अच्छा नही होता… पर ऐसा नही है इन्हे भी घर चाहिए होता है… और बिल्ली इतनी cute होती है की हर किसी को इनसे बहुत ही जल्दी प्यार हो जाएगा। और साथ ही ये शहतान भी होती है तो थोड़ा बच कर।

Indian

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अनुभूति शांडिल्य ‘तीस्ता’ भोजपुरी जगत की आन, बान, शान

Thu Jul 4 , 2019
भोजपुरी जगत का वो नाम जो शायद ही कभी भुलाए भूला जा सके, क्योंकि महज चंद सालों में जो छाप 'तीस्ता' ने छोड़ी है. शायद हर भोजपुरी चाहने वाला उसका कायल है.
अनुभूति शांडिल्य ‘तीस्ता