‘लीप ईयर’, हर चार साल पर आता है। चार साल से पहले हम न तो इसे याद करते हैं न कोई मतलब है। लेकिन साल में जुड़े इस एक्सट्रा दिन से कई लोगों की अच्छी और बुरी यादें जुड़ी हैं, जिन्हें वो भूल भी जाते है लेकिन यह लीप ईयर […]

हिंसा और भीड़, हाँ वो ही जिसकी कोई शक्ल नहीं होती है. क्योंकि ये जब भी सड़कों पर निकलती है. तो चारों तरफ का मंजर इतना भयावह हो जाता है कि, इनके गुजरने के बाद बस वहाँ बिखरा पड़ा सामान, पत्थर, जली गाड़ियां, जले घर और यहां तक की खून […]

घूमने के लिए देश के अलग-अलग हिस्सों में बहुत सी जगहें हैं। इनमें से कई ऐसी जगहें हैं जो हमें आश्चर्य में डाल देती हैं। भारतीय इतिहास में सबसे अद्भुत चीज़ रही है यहां कि स्थापत्य कला जो युगों से पूरी दुनिया को अपनी ओर आकर्षित करती रहीं हैं। वैसे […]

पूर्वी दिल्ली का माहौल वहां से आई आगजनी, पत्थरबाजी की वीडियो को सबने देखा, कोई किसी नेता पर उंगली उठा रहा है तो, कोई किसी नेता पर. चाहे पुलिस बल हो…या फिर दंगाई…सभी एक दूसरे के निशाने पर हैं. दूर सूदूर से फेंके जा रहे पत्थर, चलने वाली गोलियां….और जलने […]

दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यता कौन सी है? हम भारतीय लोग हैं तो ये ही कहेंगे कि, भारत की सभ्यता सबसे पुरानी है। लेकिन ऐसा था नहीं। यह बात तो 2016 में साबित हुई कि भारत की हड़प्पा सभ्यता ही दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यता है। जिसका इतिहास 8000 साल […]

हमारे देश में महिलाएं आजाद है… वो सब करने के लिए जो वो करना चाहती है। अपने मनचाहे कपड़े पहनने के लिए, पसंद का खाना खाने के लिए, घूमने के लिए, और यहां तक की अपना मनचाहे लड़के से शादी करने के लिए भी। लेकिन.. इन आजाद महिलाओं और लड़कियों […]

‘सोनागाछी’ बंगाल का एक जिला है, जिसका नाम सुनते ही लोग चुप—चुप—चुप कहने लगते हैं। क्योंकि पश्चिम बंगाल का यह जिला जिस कारण से फेमस है उसे हमारे समाज में नीच, गंदा और बुरा काम माना जाता है। लेकिन समाज की इसी सोच के कारण यहां रहने वाली एक बड़ी […]

अमरीश पुरी : ‘लाइव टेलीकास्ट हो रहा है बच्चे, बोलों बनोंगे एक दिन के लिए सीएम? अनिल कपूर : ठीक है सर, अगर ऐसा हो सकता है तो मैं बनूंगा, एक दिन के लिए सीएम फिल्म का नाम है नायक और इसका यह इंटरव्यू वाला सीन आज भी बेहद लोकप्रिय […]

हमारे देश में नए साल के शुरू होते ही इसके स्वागत के लिए कई त्योहार मनाए जाते हैं। बैसाखी, गुड़ी पड़वा, पोंगल इसके कई उदाहरण हैं। लेकिन इसी बीच एक और त्योहार है जो अपने रंग, रुप और कला से भारतीय संस्कृति को कई सालों से समृद्ध करती हुई आ […]

‘लिव इन रिलेशनशिप’, अंग्रेजी का छोटा-सा वाक्य है, लेकिन हमारे सामाज में जैसे ही इसके बारे में लोग सुनते हैं यह छोटा सा वाक्य उनके गुस्से में उबाल का कारण बन जाता हैं। भारतीय संस्कृति पर हमला  सीधे ध्यान यहीं जाता है। भारतीय संस्कृति में ‘लिव इन रिलेशनशिप’ का कोई […]