हिंसा के बीच कुछ कहानियां जो दिल को ठंडक दे जाएंगी

पूर्वी दिल्ली का माहौल वहां से आई आगजनी, पत्थरबाजी की वीडियो को सबने देखा, कोई किसी नेता पर उंगली उठा रहा है तो, कोई किसी नेता पर. चाहे पुलिस बल हो…या फिर दंगाई…सभी एक दूसरे के निशाने पर हैं. दूर सूदूर से फेंके जा रहे पत्थर, चलने वाली गोलियां….और जलने वाले घर, हर एक जगह किसी न किसी का नाम है. चाहे वो हिंदू हो…या फिर मुस्लिम

लेकिन खौंफनाक मंजर के बीच कुछ ऐसी घटनाऐं भी हैं, जो दिल को दिलासा जरूर देंगी. क्योंकि उन्हें पढ़ने और सुनने के बाद आपको जरूर लगेगा कि, हाँ इंसानियत अभी भी दिलों में जिंदा है.

हिंसा और इंसानियत दोनों साथ-साथ

Hindu-Muslim violence

हिंसा की आग में जलने वाले मुस्तफ़ाबाद इलाके में जिस समय उपद्रवी भीड़ बिना सोचे समझे एक दूसरे के समुदाय को मारने पर तुली थी. उस दौरान वहां रहने वाली मंजू श्रीवास्तव अकेली वहां फंस गई थी. उस दौरा उपद्रवियों ने उनके आस पास के घरों में आग लगा दी थी. जिसकी जानकारी इलाहाबाद में रनहे वाले मोहम्मद अनस को हुई तो उन्होंने वहां रहने वाली मंजू श्रीवास्तव को उपद्रवियों की हिंसा से उन्हें बचाने की अपील फेसबुक पर कि, जिसके बाद पास में रहने वाले मोमिन सैफी और उसके 10-15 दोस्तों ने आकर मंजू को वहां से बाहर निकाला और उन्हें अपने घर ले गए.

हिंसा इतनी की दुबई से किया फोन, दोस्त से की बचाने की अपील

Hindu-Muslim violence

दुबई में रह रहे हाजी नूर मोहम्मद को जब इस हिंसा के बारे में जानकारी मिली तो, उन्होंने अपने दोस्त को फोन किया. क्योंकि नूर मोहम्मद का परिवार यमुना विहार इलाके में रहता है. लेकिन दंगाईयों के बीच परिवार के फंसने के डर के चलते. उन्होंने अपने दोस्त पूरन चुघ को फोन किया और उन्हें वहां से निकालने को कहा.

जिसके बाद पूरन चुघ ने अपनी गाड़ी में नूर मोहम्मद के घर जाकर, जहां उनका परिवार किराए पर रहता था. वहां से निकाल कर उनके रिश्तेदार के यहां छोड़ा.

उपद्रवियों के बीच फंसी करिश्मा को पिंगी गुप्ता ने बचाया

Hindu-Muslim violence

जिस समय हिंसा अपने चरम पर थी, उस समय करिश्मा जोकि चांद बाग में रहती हैं. वो अपने ऑफिस शास्त्री नगर से लौट रही थी. हालांकि शाम को वो जैसे ही सीलमपुर मेट्रो स्टेशन पर उतकर गलियों से होती हुई अपने घर को लौट रही थी तभी उपद्रवियों ने उन्हें घेर लिया था. इसकी सूचना जब पिंगी गुप्ता को हुई तो अपने साथियों के साथ करिश्मा की मदद करने के लिए घटना स्थल पर पहुंच गई.

जिसके बाद पिंगी ने करिश्मा को वहां से निकाल कर उनके मामा नूर-ए-इलाही के यहां छोड़ा.  

बीजेपी पार्षद ने बचाई मुस्लिम परिवार की जान

Hindu-Muslim violence

जहां आम आदमी पार्टी के ताहिर हुसैन पर दंगा करवाने और भड़काने का आरोप लग रहा है. वहीं बीजेपी के निगम पार्षद प्रमोद गुप्ता ने शाहिद सिद्दीकी के परिवार को उस वक्त बचाया. जिस समय रात में अचानक भीड़ पूरे इलाके में पहुंच गई थी. उस समय यहां न तो पुलिस पहुंच पाई थी और न ही इलाके में बेरिकेडिंग थी. भीड़ ने शाहिद सिद्दीकी के घर के नीचे मौजूद बुटीक में आग लगा दी थी. उस समय जब इसकी जानकारी प्रमोद को हुई तो वो मौके पर पहुंचे और उन्होंने शाहिद के परिवार को वहां से निकाला. भीड़ को वहां रोका और उन्हें वहां से लौटने को कहा, इस दौरान शाहिद के परिवार में दो महीने का बच्चा भी था. जिसको लेकर प्रमोद सुरक्षित जगह ले गए.

हिंदू-मुस्लिम दोनों ने पेश की इंसानियत की मिसाल

Hindu-Muslim violence

कुछ ऐसा ही आलम उस समय भी हुआ जिस समय, मुस्तफाबाद में हिंसक भीड़ आई…संजय कुमार ने अपने फेसबुक वाल पर लिया कि, हिंसक भीड़ वहां मौजूद मंदिर को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करने लगी. हालांकि उस समय वहां रहने वाले मुस्लिम परिवार के लोगों ने हिंदुओं के बचाव में आ गए. इस दौरान गली के बाहर बुजुर्ग मुस्लिम महिला कुर्सी लगाकर बैठ गई…ताकि हिंसा की आग उनकी गली तक न पहुंचे और हिंदू-मुस्लिम दोनों ही सुरक्षित रहें.

वहीं इसके आगे वो लिखते हैं कि, मैं जहां रहता हूं वहां हिंदू ज्यादा हैं. हमारे यहां की गली में सिर्फ तीन घर मुसलमानों के हैं. लेकिन हम सबने उनके सुरक्षा की गारंटी ले रखी है. ताकि कोई भी इनको नुकसान ने पहुंचा सके. वो सभी पूरी तरह सुरक्षित हैं. हालांकि, मेन रोड तक पहुंची भीड ने हिंदूओं की गाड़ियों और दुकानों को जलाकर पूरी तरह खाक कर दिया है.

Indian

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

Egg shaped wonder of Bihar capital : पटना की इस इमारत में खास क्या है?

Fri Feb 28 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it Email घूमने के लिए देश के अलग-अलग हिस्सों में बहुत सी जगहें हैं। इनमें से कई ऐसी जगहें हैं जो हमें आश्चर्य में डाल देती हैं। भारतीय इतिहास में सबसे अद्भुत चीज़ रही है यहां कि स्थापत्य कला जो युगों से पूरी दुनिया […]
Golghar