वायु प्रदूषण को कम कर सकता है अंतिम संस्कार का इको फ्रैंडली तरीका

एक वक्त था, जब लोग खुली हवा में सांस लेने की बात करते थे, और बात आज की करें तो, आज हम घर से बाहर भी मास्क पहन कर निकलते हैं। रास्ते में कभी ध्यान देंगे तो आप को दिखाई देगा कि, किसी के मुंह पर कपड़ा बंधा हुआ हैं तो, कोई रूमाल बांधकर बाइक चला रहा हैं, और इसके पीछे वजह क्या हैं। वो हम सब जानते हैं। सब इस बारे में बात जरूर करते हैं कि, वायु प्रदूषण यानि की एयर पॉल्यूशन को कैसे कम करना चाहिए, लेकिन सब सिर्फ बातें ही करते हैं, अच्छा आप ही बताईए, हम और आप जैसे कितने ऐसे लोग हैं, जो एयर पॉल्युशन को कम करने के लिए कुछ ऐसा काम कर रहे हैं, जिससे हमारे वातावरण में कोई सुधार हो सकें।

और तो और अब हमारा देश सबसे प्रदूषित देशों के लिस्ट में भी शामिल हो चुका हैं, देश की राजधानी तक सबसे प्रदूषित शहरों के लिस्ट में 11वें स्थान पर है। मतलब हमने हमारे ही देश को इतना प्रदूषित कर दिया हैं कि, अब हमारा ही सांस लेना दुश्वार हो गया हैं। और इसमें हमारा दोष ये है कि, अपने कंफर्ट और अपनी सुख-सुविधाओं के लिए हम पेड़-पौधों की अंधाधुंध कटाई करने पर तुले हुए हैं, उनकी लकडियों को जलाकर सर्दियों में हम खुदकों को गर्म कर लेते हैं, लेकिन उनके जलने से जो धुआं निकलता है उससे परेशानी हमारे वातावरण को होती हैं।

Air Pollution – एक अंतिम संस्कार में जलती है 400-500 किलो लकड़ियां

वैसे तो स्मॉग के कई कारण हैं, जगह-जगह कचरा जलाने, खेतों में पराली जलाने, गाड़ियों से निकलने वाले धुएं से लेकर अंतिम-संस्कार के दौरान भी काफी वायु प्रदूषण होता हैं, हमारे देश में कई धर्मों के लोग रहते हैं, जिनमें से हिंदू धर्म की संस्कृति और रीति-रिवाजों के अनुसार, किसी की मौत के बाद उस व्यक्ति के शव को जलाकर ही उसका अंतिम संस्कार किया जाता है, लेकिन क्या आप ये जानते हैं कि, एक व्यक्ति के अंतिम संस्कार में तकरीबन 400-500 किलों लकड़ी को जलाया जाता है और साल भर में इन लकड़ियों के लिए करीब 4 लाख पेड़ों की कटाई की जाती है अब आप खुद सोचिए कि, देशभर में पर्यावरण को इससे कितना नुकसान हो रहा है।

इसे ध्यान में रखते हुए आईआईटी दिल्ली के छात्रों ने इको फ्रेंडली तरीका निकाला है, जिससे वायु प्रदूषण कम होने के साथ अपशिष्ट प्रबंधन भी होगा। आईआईटी दिल्ली के 40 छात्रों ने मिलकर अंतिम संस्कार में लकड़ी की जगह पर गाय के गोबर के कुंदे इस्तेमाल करने की सलाह दी है। इन डंग कुंदों को मशीन से बनाया जाता है। इसमें पहले 50 डिग्री तापमान पर गोबर को सुखाया जाता है और फिर मशीन की मदद से कुंदे तैयार किए जाते हैं।

Air Pollution – गोबर के कुंदो से अंतिम संस्कार कर कम होगा वायु प्रदूषण

इन छात्रों की टीम ने दिल्ली के निगम बोध घाट सहित 50 शमशानों का सर्वे किया। जिसमें उन्हें पता चला कि, ज्यादातर लोग शवों को लकड़ी से ही जलाते हैं। हालांकि, कई शमशानों में बिजली या सीएनजी जैसी वैकल्पिक व्यवस्था है लेकिन बहुत कम लोग इसका इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में गाय के गोबर के कुंदे का इस्तेमाल अच्छा ऑपशन हो सकता है।

दिल्ली जैसे कई बड़े शहरों में काफी संख्या में गौशालाएं हैं, जिनमें काफी संख्या में गायें रहती हैं और ऐसे में गोबर को मैनेज करना भी एक भारी समस्या हो जाती है। इसे कई बार खाली जगहों पर फेंक दिया जाता है और बदबू के कारण आसपास के लोगों को परेशानी होती है। अंतिम संस्कार में गोबर का इस्तेमाल करने से न सिर्फ वायु प्रदूषण कम होगा बल्कि वेस्ट मैनेजमेंट का भी ये एक बेहतरीन तरीका बन सकता है।

आईआईटी दिल्ली के इन Students के इस सुझाव को कितने लोग अपनाते हैं और कितने नहीं इसका अंदाजा लगाना थोड़ा-सा मुश्किल हैं लेकिन जैसा कि, अपनी हर कहानी के बाद हम आपको एक मैसेज देने की कोशिश जरूर करते हैं, तो मैसेज आप समझ ही गए होंगे कि वातावरण को स्वच्छ बनाने में आप भी अपना सहयोग दें।

इस आर्टिकल को वीडियो के रूप में देखने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

Indian

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

Chicken pox को भारत में माता क्यों कहते हैं ?

Wed Jul 10 , 2019
Share on Facebook Tweet it Pin it Email हमारे देश में हर चीज़ को धार्मिक मान्यता और आस्था के साथ जोड़ कर देखा जाता है। अगर हम अपने दिन की शुरुवात करें तो ऐसी कई बातें हमें दिनभर देखने और सुनने को मिलती है। इसका सबसे बड़ा रीज़न है कि […]
Chicken pox को भारत में माता क्यों कहते हैं ?