रियल लाइफ में घटी नायक फिल्म की कहानी, आम आदमी ने सबको लाइन पर ला दिया

अमरीश पुरी : ‘लाइव टेलीकास्ट हो रहा है बच्चे, बोलों बनोंगे एक दिन के लिए सीएम?
अनिल कपूर : ठीक है सर, अगर ऐसा हो सकता है तो मैं बनूंगा, एक दिन के लिए सीएम

Sonu chauhan

फिल्म का नाम है नायक और इसका यह इंटरव्यू वाला सीन आज भी बेहद लोकप्रिय है। गाहे—बगाहे आज के पॉलिटिक्स या नॉर्मल लाइफ से जोड़ कर इसकी चर्चा हो ही जाती है। जमाना मीम्स का है तो नायक फिल्म के इस सीन्स के कई मीम्स भी बने हैं। लेकिन इस फिल्म में एक चीज दिखाई गई है कि एक आम आदमी की जब सटकती है तो वो पूरे सिस्टम की सटकाकर रख देता है, मतलब टेढ़े सिस्टम को अकेले ही सीधा करके लाइन पर ले आता है।

हाल ही में एक और ऐसी ही फिल्म देखने को मिली थी जिसमें भी आम आदमी को लेकर ही चर्चा है। फिल्म का नाम था ‘जय हो’ और हिरो थे सलमान खान। फिल्म में उनका एक डायलॉग है, बड़ा धांशूवाला… जिसको सुनकर आपके रोंगटे खड़े हो जाते हैं। सलमान खान सन्नी देओल वाली चिंहाड़ पहले निकालते हैं फिर कहते हैं –

आम आदमी सोता हुआ शेर है…. उंगली मत कर, जाग गया तो चीड़-फाड़ के रख देगा।


वैसे इतना पढ़ के आप कह रहे होंगे कि इतना बकैती क्यों भैया, इतना तो हम लोग यू ट्यूब पर सर्च करके देख लेतें! पता है। लेकिन आप यू ट्यूब पर केवल फिल्मी डायलॉग देख सकते। लेकिन रील लाइफ का रियल वर्जन आपको देखने का मौका कैसे मिलेगा।

अब आप इस रियल लाइफ आम आदमी के बारे में जानना तो जरूर चाह रहे होंगे, जो पहले तो तो जय हो वाला सलमान खान बना फिर जब उसके साथ नायक फिल्म की घटना हुई तो वो इस फिल्म के हीरो अनिल कपूर की तरह सड़कों पर उतर गया और सबकी क्लास लगा के रख दी।

सोनू चौहान ने कुछ ऐसे लाया सबको लाइन पर

यह घटना है 19 फरवरी की। उत्तरप्रदेश के आलवालपुर के रहनेवाले आम आदमी सोनू चौहान की जाम के कारण कुछ ऐसी सटकी की वो सीधे खूब सारी शिकायत लेकर पहुंच गए एसपी साहेब के पास।

एसपी साहब के ऑफिस में सोनू के पहुचते ही नायक फिल्म का सीन क्रिएट हो गया। एसपी साहब ने सोनू को ऑफर दे मारा कि अब दम है तो बन जाओं 2 घंटे के लिए ट्रैफिक सीओ और दिला दो शहर को जाम से मुक्ति।

यह ऑफर मिला तो सोनू ने भी मौके को लपक लिया… आखिर इस आम आदमी की सटक जो चुकी थी। एसपी साहब का फरमान हुआ…. सोनू भाई हेलमेट वगैरा लगा कर तैयार हुआ और जा बैठा सीधे ट्रैफिक पुलिस की एसयूवी में।

Sonu chauhan

यह एसयूवी पहूंची सीधे एनएच—2 पर और यहां पर सोनू भाई ने संभाल लिया चार्ज। उसके बाद वो पूरे नायक के अनिल कपूर अवतार में दिखे। एक के बाद एक गलत पार्किंग वालों के चलान काटे, 1600 रुपये के करीब कैस फाइन चार्ज बसूले और ट्रैफिक सिस्टम को भी लाइन पर ला खड़ा किया। 1 बजे से लेकर 3 बजे तक सोनू ने अपनी ड्यूटी की… और दिखा दिया कि

‘don’t underestimate power of a common man’

फिरोजाबाद के एसपी सचिंदर पटेल ने सोनू के इस काम को लेकर मीडिया में कहा कि ” सोनू को दो घंटे के लिए ट्रैफिक सीओ बनाना एक एक्सपेरिमेंट का हिस्सा था, उन्होने दो घंटे में 40 चलान काटे और 1600 कैस भी फाइन के रुप में वसूले, साथ ही ट्रैफिक को भी अच्छे से कंट्रोल किया। इससे हमे बहुत कुछ स्टडी करने को मिला है और हम आगे भी ऐसे एक्सपेरिमेंट करेंगे।”

वहीं अपने दो घंटे के ट्रैफिक सीओ बनने के एक्सपीरियंस के बारे में सोनू का कहना है —

”टूंडला के सुभाष इंटरजेक्श पर हर रोज लोगों को जाम से परेशानी झेलनी पड़ती है। मैने मन बना लिया था कि इस बारे में एसपी से मिलकर बात करुंगा। जब मैं वहां गया तो उन्होंने मेरी बात सुनी और मुझे यह मौका दिया।” सोनू आगे कहते हैं कि

Sonu chauhan

” मैने अपनी ड्यूटी के दौरान निजी ऑपरेटरों और राज्य रोडवेज द्वारा संचालित ऑटो-रिक्शा और बसों सहित कई वाहनों के चालान किया। ये वाहन पूरे चौराहे को अवरुद्ध करते हुए सड़क के बीच में खड़े थे। एक एम्बुलेंस भी ट्रैफिक में फंस गई, लेकिन जल्द ही, हम चौराहे को खाली कराने में कामयाब हुए। उन्होंने यह भी कहा कि ड्यूटी के समय पुलिसकर्मियों का सहयोग मिला ओर उन्होंने मेरी बातों का पालन भी किया।”

सोनू के इस कारनामें ने एक नई मिशाल पेश की है और साथ ही लोगों को एक संदेश दिया है कि यह देश, यहां की हर सड़क और यहां का हर कानून और नियम हमारे लिए है। यह इसलिए है ताकी हमारे देश की प्रगति में कोई अड़चन न आ सके। इतना ही नहीं उन्होंने यह भी संदेश दिया है कि अगर सिस्टम ठीक से काम नहीं कर रहा तो आम आदमी को उसे कानूनी रुप से ठीक करने के लिए आगे आना चाहिए। क्यों कि सिस्टम हमारे लिए है ओर इस सिस्टम को सही तरह से रन कराने की जिम्मेदारी भी हमारी ही है।

Indian

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कहानी 'सोनागाछी' के सशक्त सेक्स वर्कर की, जिन्होने स्थापित किया खुदका को—ऑपरेटिव बैंक

Wed Feb 26 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it Email ‘सोनागाछी’ बंगाल का एक जिला है, जिसका नाम सुनते ही लोग चुप—चुप—चुप कहने लगते हैं। क्योंकि पश्चिम बंगाल का यह जिला जिस कारण से फेमस है उसे हमारे समाज में नीच, गंदा और बुरा काम माना जाता है। लेकिन समाज की इसी […]
Usha- Story of a Life Changing Cooperative Bank