प्यार का ये तरीका निश्चित ही आपका दिल जीत लेगा

The Indianness की वेबसाईट की बात हो या, फिर यूट्यूब चैनल की…हर जगह हमारी कोशिश रहती है कि, हम सभी भारत की विविधता से लेकर भारत की विरासत की बात करें. लेकिन इस समय जिस तरह से पूरी दुनिया Corona से ख़ौफ खाए हुए है. उसे देखकर ऐसा लगता है कि, अगर जल्द ही इस पर काबू नहीं पाया गया तो सब कुछ तबाह हो जाएगा. इस बीच जहाँ कई देश अपनी सीमाऐं बंद कर रहे हैं. वहीं इंसान भी इंसानों के पास जानें से डर रहे हैं. लेकिन कुछ चीजें होती हैं जो एक दूसरे के दिल में घर कर जाती हैं.

जहाँ हाल ही में इटली के लोग खिड़कियों पर खड़े होकर अपने देश का उत्साह बढ़ा रहे थे. वहीं बीते रोज एक तस्वीर ने इस भयावह समय के दौरान लोगों का दिल जीत लिया. एक ऐसी तस्वीर जिसने ये बता दिया कि, प्यार न तो कभी बंदिशों में था और न ही रहेगा.

Corona भी नहीं बांध सकता मेल खाते दिलों को

बीते रोज अमेरिका के एनबीसी न्यूयॉर्क ने एक फोटो शेयर की थी. जिसमें अमेरिका के टोलैंड काउंटी, कनेक्टिकट के वर्नोन में रहने वाले एक बुजुर्ग शख्स Bob Shellard दिखाई दे रहे थे. जिन्होंने अपने हाथों में कुछ गुब्बारों के साथ एक बड़ा सा बैनर पकड़ रखा था और इस बैनर पर लिखा था, I’ve love you 67 years and still do Happy Anniversary.   

Bob Shellard वर्नोन के एक नर्सिंग होम में एडमिट अपनी पत्नी के लिए के लिए ये बैनर लेकर पहुंचे थे. क्योंकि बीते रोज उनका शादी की सालगिरह थी. यही वजह थी कि, शादी की सालगिरह पर अपनी पत्नी से मिलने के लिए Bob Shellard ने इजाजत मांगी थी. लेकिन ‘कोरोना वायरस के कारण बरती जाने वाली सावधानियों के चलते उन्हें अस्पताल प्रशासन के इजाजत नहीं मिली थी.’

Bob Shellard की पत्नि Nancy ने दिया जवाब

Bob Shellard जिस समय अपनी पत्नी को दिखाने के लिए बैनर लेकर नर्सिंग के बाहर बोर्ड लेकर खड़े थे. उस समय उनकी पत्नी Nancy ने वहां की खिड़की पर आकर हाथ हिलाकर और फ्लाइंग किस के साथ अपने पति के साइन बोर्ड का जवाब दिया. जिसके बाद से ये तस्वीरें Corona के साथ-साथ पूरे सोशल मीडिया पर छाई रही.  

Bob Shellard और Nancy की शादी साल 1953 में हुई थी. तब से अब तक ऐसा पहली बार हुआ है कि, दोनों अपनी सालगिरह के दिन साथ न रहे हों. जाहिर है, जहां एक तरफ Corona वायरस के कहर से दुनिया पूरी तरह थम सी गई है. वहीं इस तरह की वीडियो और तस्वीर लोगों का ध्यान कोरोना से हटा रहे हैं.

Indian

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

वो दौर जब अपने स्तन ढ़कने के लिए औरतों को देना पड़ता था "स्तन कर"

Wed Mar 18 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it Email आज के वक्त में जहां औरतों के क्लिवेज का दिखना भी उन्हें चरित्रहीन का सर्टीफिकेट थमाने के लिए काफी होता है, तो वहीं हमारे इतिहास में एक वक्त पर औरतों को अपने स्तन ढ़कने के लिए भी कर चुकाना पड़ता था। ये […]
Channar Revolt