आदित्य देव- 2 फुट 9 इंच का आदमी जिसे दुनिया कहती थी ‘वर्ल्ड स्मॉलेस्ट बॉडी बिल्डर’

छोटे हाइट का होना कैसा होता है? मतलब कैसा लगता है किसी को बड़े—लंबे लोगों के बीच में नॉर्मल से भी कम हाइट का होने पर? कईयों को अपनी हाइट के कारण बहुत कुछ सुनने को मिलता है। दुनिया बौना, नाटा, टिंगू और न जाने क्या—क्या कहती है। इसपर भी अगर लड़की हो और उसकी हाइट कम हो तो उसपर भी बहुत दिक्कत है खासतौर पर शादी वाले मामलों में। लड़कों को दिक्क्त ज्यादा होती है नौकरी में, जैसे आप आर्मी में जाना चाहते हैं लेकिन जा नहीं पाते क्योंकि, आपको आपकी छोटी हाइट के कारण चुना नहीं जाता। मतलब छोटी हाइट का होना आपके हर जगह से छटने का कारण ही बनेगा। बहुत छोटे है तो हां किसी वर्ल्ड रिकॉर्ड वाली किताब में आपका नाम दर्ज हो जाएगा। लेकिन बीच में फंस गए तो बस जैसे पिछले जन्म का किया पाप है जो आप इस जन्म में भुगत रहे हैं। लेकिन ऐसा नहीं है कि, ये शारीरिक कमियां आपकी उपलब्धियों में अड़चन बन सकती हैं। कहते हैं कि, इंसान दुनिया का वो जीव है जो एक बार अगर कुछ करने की ठान ले तो फिर कितनी भी दिक्कते हों वो अपनी मंजिल तक पहुंचकर ही रहता है।

World's Tiniest Bodybuilder

केवल 9 ग्राम का शरीर, फिर भी दुनिया ने कहा बॉडी बिल्डर

आपने अक्षय कुमार की अगर ‘राउड़ी राठौड़’ फिल्म देखी होगी तो आपको इस फिल्म का एक फेमस डायलॉग तो याद ही होगा ‘सौ साल जिंदा रहने के लिए सौ साल की उम्र जरूरी नहीं, बल्कि एक दिन में ऐसा काम करो कि, दुनिया सौ सालों तक तुम्हे याद रखे’, और आज हम ऐसे ही एक आदमी की कहानी आपको बताने जा रहे हैं जो आज भले ही दुनिया में नहीं है लेकिन लोग उसे आज भी ‘वर्ल्ड स्मॉलेस्ट बॉडी बिल्डर’ के रूप में याद करते हैं। हम बात कर रहे हैं पंजाब के जालंधर के रहने वाले आदित्य देव की, जिन्हें प्यार से लोग रोमियो भी बुलाते थे। उनकी हाइट थी केवल 2 फुट 9 इंच और शरीर का वजन था केवल 9 किलोग्राम। लेकिन इस 9 किलोग्राम के इंसान ने ऐसी प्रसिद्धी हासिल की कि, पूरी दुनिया में नाम हो गया।

उनकी इस प्रसिद्धी के पीछे थी उनकी रोज की मेहनत। नौ किलो वजन का मालिक होने और इसे मेंटेन करने के लिए रोज किलो के डम्बल उठाया करते थे। साल 2006 में रोमियो का नाम दुनिया के सबसे छोटे बॉडी बिल्डर के रूप में लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज किया गया। लेकिन रोमियो सिर्फ एक बॉडी बिल्डर हीं नहीं थे। उन्हें दुनिया बहुत बड़े डांसर के रूप में भी याद करती है। रोमियो ने देश-विदेश की कई टीवी चैनलों पर अपनी डांस और बॉडी बिल्डिंग प्रतिभा का लोहा मनवाया था। जब 13 सितंबर 2012 को रोमियों की डेथ हुई तो उनकी उम्र केवल 23 साल की थी लेकिन उस समय तक उन्होंने वो कामयाबी हासिल कर ली थी जिसके कारण जब वे दुनिया से विदा हुए तो दुनिया के कई हिस्सों के लोगों के मुंह से दर्द की आह निकली और आंखों से गम का पानी।

उनके ऊपर बनी एक डॉक्यूमेंट्री में उनकी मां राकेश बाला बताती हैं कि, जब वो पैदा हुआ तो सब कोई शॉक थे कि, इतने छोटे बच्चे को कैसे पाला जाएगा। वे कहतीं हैं कि, उस समय की कोई फोटों नहीं है, वरना अगर आज वो सीन कोई देखता तो हैरान हो जाता। वहीं रोमियो की आंटी स्वतांतरे  कहती हैं — उसका मुंह बहुत छोटा था, सिरिंच से दूध पिलाना पड़ता था। वहीं उनकी बहन मीनाक्षी उस समय की बात बताती है जब रोमियो फेमस नहीं हुए थे। वो कहती हैं कि, उस समय लोग मज़ाक उड़ाते थे कि, यह तो बहुत छोटा है कुछ भी नहीं कर सकता।

World's Tiniest Bodybuilder

Aditya Dev , पिता ने कहा — श्राप नहीं, वरदान था

रोमियों ने स्कूल में फेल होने के बाद पढ़ाई छोड़ दी, लेकिन ऐसा नहीं है कि, इसके आगे उनकी जिंदगी खत्म हो गई। इसी दौर में एक पंजाबी सिंगर बहुत फेमस हुए जिन्हें लोग ‘जैज बी’ के नाम से जानते हैं। रोमियो को जैज बी के गानों ने डांसिंग स्टार बना दिया। उनके घर के लोग कहते थे कि, जैज बी रोमियो की आत्मा है। यहीं से रोमियों को कई बड़े प्रोग्राम्स के ऑफर आने लगे और वो डांसिंग स्टार बन गए। रोमियों के पिता कहते हैं वो बहुत इनोसेंट था और उसकी इनोसेंसी के कारण ही लोग उसे बहुत ज्यादा पसंद करते थे। 

रोमियों को उनके दोस्त यार और घर के लोग मनु नाम से जानते थे। जब मनु डांसिग करने लगे तो उनकी डिमांड बढ़ गई और पूरे पंजाब में वो फेमस हो गए। लेकिन उन्हें इंटरनेशनली पहचान मिली जब वे बॉडी बिल्डिंग करने लगे। जिसे लोग बेकार समझते थे वो मनु रातों रात दुनियाभर में स्टार बन गया। पहली बार मनु के कारण उनकी पूरी फैमली विदेश गई। जहां उनके ऊपर एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म भी बनी जिसे पंजाब से लेकर अमेरिका तक में शूट किया गया। 23 साल की उम्र में भले ही रोमियो ने दुनिया को अलविदा कह दिया, लेकिन जाते—जाते उन्होंने दुनिया को यह बता दिया कि, बोना होना, नाटा होना सिर्फ एक फिजिकल प्रॉब्लम है जिसे एक साइड में रखकर हम दुनिया में वो सब कुछ हासिल कर सकते हैं जिसे आम और नॉर्मल शरीर वाला अचीव कर सकता है। उनके पिता ने उनके बारे में कहा था कि — जब मनु पैदा हुआ था तो हमें लगा कि, यह श्राप है, लेकिन अब जब दुनिया उसे जानगई है तो हमे एहसास हुआ है कि, वो श्राप नहीं बल्कि वरदान है।

Indian

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पुलवामा के वीरों के परिवार से मिलने वाले 'उमेश गोपीनाथ जाधव', जानिए इनके बारे में

Fri Feb 14 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it Email पुलवामा अटैक आज ही के दिन साल 2019 में हुआ था। यह 26/11 के हमले के बाद 11 सालों में हुआ दूसरा सबसे बड़ा आतंकी हमला था। वहीं पहली बार आतंकियों ने सेना के इतने बड़े काफिले पर इतना बड़ा हमला किया […]
Umesh Gopinath Jadhav